Google Analytics

Amazon Contextual Product Ads

Thursday, August 27, 2009

EDITORIAL HINDI 27.08.09

August 27, 2009

Please contact the list owner for subscription and unsubscription at: editorial@samarth.co.in

 

media watch with peoples input                        an organization for rastriya abhyudaya

 

EDITORIAL

month August 27, Edition 000001,

 collected by akash kumar rai ,  managed by durgesh kumar mishra

 published by – manish manjul


Editorial is syndication of all daily-published newspapers editorial at one place.

 

For more options, visit this group at

http://editorialsamarth.blogspot.com/

http://groups.google.com/group/editorial_samarth?hl=en

 

vej mtkyk

1.                  ÖýcÅæ¿æÚ ÂÚ ¥¢·éàæ ·ñâð

2.                  ÖæÁÂæ ·ô Õ¿æÙð ·æ ·ô§ü ÚæSÌæ ãñ?

3.                  ŸæðcÆÌæ ·ð 뢅 âð ÕðÜ»æ× ¥×ðçÚ·è

4.                  ÕæÕé¥ô´ ÂÚ Ü»æ×

 

nSfud HkkLdj

1.                  राजनीतिक इच्छाशक्ति से मिटेगा भ्रष्टाचार

2.                  हरियाणा  में बदला  सियासी  मौसम

 

fgUnqLrku

1.                  आतंक  की हद

2.                                      सितारों से आगे

nSfud tkxj.k

1.                  नक्सलियों का दुस्साहस

2.                  जागरूकता के लिए पहल

 

jktLFkku if=dk  

1.                  भारत भी विकसित करे ड्रोन

2.                  खतरे में स्वास्थ्य

 

*************************************


****************************************************************************************************

vej mtkyk

ÖýcÅæ¿æÚ ÂÚ ¥¢·éàæ ·ñâð

§â Îðàæ ·æ ãÚ Ùæ»çÚ· ÖýcÅæ¿æÚ ·ð çßLh ãñ, çÈÚ Öè ÂêÚæ Îðàæ §â×ð´ çÜŒÌ ãñÐ ã×æÚð Îðàæ ·æ ãÚ ÙðÌæ, ãÚ ÚæÁÙèçÌ· ÎÜ, âÚ·æÚ, Ùæñ·Úàææã, ‹ØæØæŠæèàæ ¥æñÚ ÂéçÜâ, âÕ·æð ¥æÂÙð ÖýcÅæ¿æÚ ·ð ç¹ÜæÈ ÕæðÜÌð âéÙæ ãæð»æ, Üðç·Ù ¥æà¿Øü §â ÕæÌ ·æ ãñ ç· Øãæ´ ÚæðÁ-Õ-ÚæðÁ ÖýcÅæ¿æÚ ÕɸÌæ ãè Áæ Úãæ ãñÐ

 

ÕéŠæßæÚ ·æð ÂýŠææÙ×´˜æè ×Ù×æðãÙ çâ¢ã Ùð °· ÕæÚ çÈÚ Áæ´¿ °Áð´çâØæð´ ·æð çãÎæØÌ Îè ãñ ç· ·æð§ü ÕǸð âð ÕǸæ ÖýcÅæ¿æÚè ΢çÇÌ ãæðÙð âð Õ¿ Ù â·ðÐ ã×æÚè ¹éàæç·S×Ìè ãñ ç· ã×æÚð ÂýŠææÙ×´˜æè ¥ÍüàææS˜æè Öè ãñ´, Áæð ÁæÙÌð ãñ´ ç· §ü×æÙÎæÚè ¥æñÚ Õð§ü×æÙè ·ð ŠæÙ ×ð´ vØæ È·ü ãæðÌæ ãñÐ Îðàæ ×ð´ ·æÜð ŠæÙ ·è °· â×æÙæ´ÌÚ â}ææ ¿Ü Úãè ãñ, ÎÚ¥âÜ ßãè â}ææ ÖýcÅæ¿æÚ ·è ÁǸð´ âè´¿Ìè ãñÐ °ðâæ Ùãè´ Ü»Ìæ ç· §ÌÙæ ÕÇ¸æ ¥ÍüàææS˜æè §â ×æ×êÜè âˆØ âð ßæç·È Ùãè´ ãæð»æÐ ªÂÚ âð Îðàæ ·è Âý×é¹ Á梿 °Áð´âè âèÕè¥æ§ü ·ð çÙÎðàæ· Ùð ¥ÂÙð ªÂÚ ¥æ§ü çÁ{×ðÎæÚè ·æð ÎêâÚð ·ð çâÚ ÂÚ ÇæÜÌð ãé° ·ã çÎØæ ç· ßæSÌß ×ð´ ¥ÂÚæŠæ 뢂 Âýç·ýØæ ·ð ¥çÌ ·×ÁæðÚ ãæðÙð ·è ßÁã âð ÖýcÅæ¿æÚ ·æð ÂýæðˆâæãÙ ç×ÜÌæ ãñÐ

 

ßã ·ãÌð ãñ´ ç· ÖýcÅæ¿æÚ âð ÁéǸð ×æ×Üæð´ ·è ¥ÎæÜÌè Âýç·ýØæ §ÌÙè ÉèÜè ãæðÌè ãñ ç· ¥ÂÚæçŠæØæð´ ÂÚ ·æð§ü ¥âÚ ãè Ùãè´ ÂǸÌæÐ ÂýŠææÙ×´˜æè Ùð Æè· âæÜ ÖÚ ÂãÜð Øãè ÕæÌ ·ãè Íè ç· ÖýcÅæ¿æÚ âð ÁéǸð ×æ×Üæð´ ·ð ˆßçÚÌ çÙÂÅæÙ ·ð çÜ° çßàæðá ¥ÎæÜÌð´ »çÆÌ ·è ÁæÙè ¿æçã°Ð Üðç·Ù vØæ ãé¥æ? »éÁÚæÌ Áñâð §v·æ-Îév·æ Úæ…Øô´ ·æð ÀæðǸ·Ú ·ãè´ çßàæðá ¥ÎæÜÌð´ »çÆÌ Ùãè´ ãé§ZÐ ÙÌèÁæ Øã ãñ ç· çÂÀÜè ÕæÚ ÖýcÅÌ× Îðàææð´ ·è âê¿è ×ð´ ã× 72ßð´ Ù´ÕÚ ÂÚ Íð, Ìæð §â âæÜ 85ßð´ Ù´ÕÚ ÂÚ ãñ´Ð ØæÙè ÌðÚã ÂæØÎæÙ Ùè¿ðÐ ¥æñÚ âæ×æ‹Ø ¥ßŠææÚ‡ææ Îðç¹° ç· çÁâ çߊææçØ·æ ØæÙè ÙðÌæ ß»ü ÂÚ §âð çÙØ´ç˜æÌ ·ÚÙð ·è âÕâð ÕǸè çÁ{×ðÎæÚè ãñ, ©âè ·æð §â Îðàæ ·è Õãéâ´wØ· ÁÙÌæ âÕâð ÖýcÅ ×æÙÌè ãñÐ Åþæ´âÂðÚð´âè ·æ ãè âßðü ÕÌæÌæ ãñ ç· 58 ÈèâÎè Üæð» ÚæÁÙðÌæ¥æð´ ·æð âÕâð ÖýcÅ ×æÙÌð ãñ´Ð ÁÙÌæ Öè ÁæÙÌè ãñ ç· §â Îðàæ ·ð âæÌ ãÁæÚ ¥ÚÕ LÂØð çSßâ Õñ´·æð´ ×ð´ Á×æ ·Ú·ð ڹ𠻰 ãñ´Ð ßð ç·â·ð ãñ´? ¥æ× ¥æÎ×è ·ð Ìæð ãñ´ Ùãè´Ð §â×ð´ âÕâð ÕǸè çãSâðÎæÚè ÚæÁÙðÌæ¥æð´ ·è ãè ãñÐ çÁ‹ãð´ ÖýcÅæ¿æÚ ·æð ¹ˆ× ·ÚÙð ·è ÂãÜ ·ÚÙè ãñ, ßð ãè §â×ð´ ¥æ·´Æ ÇêÕð ãé° ãñ´Ð Úãè ÕæÌ ·æÜð ŠæÙ ·è, Ìæð ©â×ð´ ã×-¥æ âÕ çÜŒÌ ãñ´Ð vØæð´ç· çÕÙæ ·æÜð ŠæÙ ·ð ¥æ Îæð ·Î× Öè ¥æ»ð Ùãè´ Õɸ â·ÌðÐ çÁÌÙè uæ§Å ×Ùè §â Îðàæ ×ð´ Âýßã×æÙ ãñ, ©ââð …ØæÎæ yÜñ· ×Ùè ¿Ü Úãè ãñÐ ¥æ °· ×·æÙ ¹ÚèÎÙð Á槰, ¥æ·æð ¥ÂÙè §ü×æÙÎæÚè ·è ·×æ§ü ·æð Öè ·æÜè ·×æ§ü ×ð´ ÌÕÎèÜ ·ÚÙæ ÂǸð»æÐ §âçÜ° ¥Ùð· ÕǸð ƒææðÅæÜæð´ ¥æñÚ âÙâÙè¹ðÁ çÚàßÌ ·æ´Çæð´ ·ð ÕæßÁêÎ ã× âè¹ Ùãè´ Üð Úãð ãñ´Ð Øã â×SØæ ¥æâæÙè âð ãÜ Öè Ùãè´ ãæð»èÐ §â·ð çÜ° ÕǸð ¥æòÂÚðàæÙ ·è ÁMÚÌ ãñ, çÁâ·ð çÜ° àææØÎ ãè ·æð§ü ÌñØæÚ ãæðÐ

 

ÂýÏæÙ×¢˜æè Ùð ÖýcÅæ¿æÚ ÂÚ ¥¢·éàæ Ü»æÙð ·ð çÜ° ·ãæ ãñ ç· ÂýÖæßàææÜè Îæ»è Üô» Õ¿Ùð Ùãè´ ¿æçã°Ð Üðç·Ù çÁâ Îðàæ ·ð Ú»-Ú» ×ð´ ÖýcÅæ¿æÚ ãñ, ßãæ¢ §â·æ ¹æˆ×æ ãô Âæ°»æ?

 

*************************************

vej mtkyk

ÖæÁÂæ ·ô Õ¿æÙð ·æ ·ô§ü ÚæSÌæ ãñ?

ÂæÅèü ·ô ¿ÜæÙð ßæÜô´ ×ð´ §âð ÁèçßÌ ÕÙæ° Ú¹Ùð ·æ Ù Ìô ·ô§ü Á…Õæ ãñ, Ù ØôÁÙæ

 

ÖæÁÂæ ·ð ¥æ× ·æØü·Ìæü¥æ𢠷ð çÜ° Øã â×ÛæÙæ ×éçà·Ü ãñ ç· ¥æç¹Ú çàæ×Üæ ×𢠥æØæðçÁÌ ÌèÙ çÎÙæ¢ð ·è ç¿¢ÌÙ ÕñÆ· ×ð¢ àæèáü ÙðÌæ¥æð¢ Ùð ÂæÅèü ·æð ⢷Šâð ©ÕæÚÙð ·ð çÜ° vØæ ç·ØæÐ çÁâ ç·âè ·æð Öè ÍæðǸæ-ÕãéÌ Øã ×é»æÜÌæ Úãæ ãæð»æ ç· Øð ÙðÌæ ¥¢ÌÌÑ â¢»ÆÙ ·æð çÈÚ âð ×ÁÕêÌ ÕÙæÙð ×ð´ ·æ×ØæÕ ãæð Áæ°¢»ð, ©Ù·ð çÜ° çàæ×Üæ ç¿¢ÌÙ çàæçßÚ ¥æƒææÌ âð ·× Ùãè´ ãñÐ ·ðßÜ §âçÜ° Ùãè´ ç· §â ÕñÆ· ·ð ÕæÎ ãè ¥L‡æ àææñÚè °ß¢ âéÏè´¼ý ·éÜ·‡æèü Áñâð Üæð»æ¢ð Ùð Õ»æßÌ ·æ çÕ»éÜ ÕÁæ çÎØæ ãñ ¥æñÚ Ù ÁæÙð ç·ÌÙð ¥æñÚ §â ¢çvÌ ×ð¢ àææç×Ü ãôÙð ·è ÌñØæÚè ·Ú Úãð ãñ´Ð Øð Ìæð ⢃ææçÌ· Õè×æÚè ·ð âÌã ÂÚ ©ÖÚÙð ßæÜð Üÿæ‡æ ãñ´Ð ¥L‡ææ¿Ü ÂýÎðàæ âð Âêßü âæ¢âÎ ç·ÚÙ çÚ…Áê ·æ §SÌèÈæ ÂæÅèü âð ÌÜæ· ·è ¥·ðÜè ƒæÅÙæ Ùãè´ ãæð»èÐ ßñâð àæõÚè ¥æñÚ ·éÜ·‡æèü ·ð ©Î÷»æÚæð¢ ×𢠻é‡ææˆ×· ¥¢ÌÚ ãñÐ ·éÜ·‡æèü ÂæÅèü ·ð àæèáü ÃØçv̈ßæ𢠷ð âæÍ ÙèçÌ-çÙ×æü‡æ âð âèÏð-âèÏð ÁéǸ·Ú Öè ÖæÁÂæ ×𢠰·æ·æÚ Ùãè¢ ãé°Ð çÁâ ÌÚã âð ßã ÂæÜæ ÕÎÜÌð ãè âÚ·æÚ ·è ÚðÜßð âç×çÌ ×ð´ Áæ ç×Üð, ©ââð vØæ ⢷ðÌ ç×ÜÌæ ãñ?

 

°· ãè ©ÂæØ ãñ ç· §Ù âÖè âð ×éçvÌ Âæ§ü Áæ° ¥õÚ çÕÜ·éÜ Á×èÙè SÌÚ ÂÚ ÂæÅèü ·ð â梻ÆçÙ· ÂéÙ»üÆÙ ·è çÎàææ ×ð´ ·Î× ©Ææ° Áæ°¢

 

ßæSÌß ×𢠧ÌÙð çÎÙæð´ Ì· ÂýÖæßè çSÍçÌ ×ð´ ©Ù·æ ÕÙð ÚãÙæ ãè ÖæÁÂæ ·ð ¥âãÁ ãæðÙð ·æ âéÕêÌ ÍæÐ Øã ¥æà¿Øü ·è ÕæÌ ãñ ç· âéÏè´¼ý ·éÜ·‡æèü ·æð §â â×Ø çÙÁè çß¿æÚÏæÚæ ·è SßÌ¢˜æÌæ ÕÙæ° Ú¹Ùð ·è ç¿¢Ìæ Ùð ÖæÁÂæ âð ¥Ü» ãæðÙð ·æð ÂýðçÚÌ ç·ØæÐ àææñÚè Ùð çÙÁè çß¿æÚÏæÚæ ·æ ÂýàÙ Ùãè´ ©Ææ·Ú ÂæÅèü ·ð ⢿æÜÙ °ß¢ ÙðÌëˆß ·ð ÚßñØð ÂÚ ã×Üæ ç·Øæ ãñÐ ¥»Ú ç¿¢ÌÙ ÕñÆ· ×𢠷éÀ ·ýæ¢çÌ·æÚè ÈñâÜð ¥æ° ãæðÌð, çÁÙ×ð¢ ÖçßcØ ·è ©{×èÎ ÙÁÚ ¥æÌè, Ìæð §â â×Ø ×æãæñÜ ·éÀ ÎêâÚæ ãè ãæðÌæ

 

âßæÜ ãñ ç· ÖæÁÂæ ·æ ¥Õ ãæð»æ vØæ? vØæ ÖæÚÌèØ ÚæÁÙèçÌ ×𢠧â·è ÂýÖæßè Öêç×·æ ¹ˆ× ãæð ¿é·è ãñÐ âßæÜ Øã Öè ç· ÖæÁÂæ ·æð ⢷Å×évÌ ·ÚÙð ·ð çÜ° ¥Õ vØæ ç·Øæ Áæ â·Ìæ ãñ?

 

ÖæÁÂæ °ß¢ ⢃æ ÂçÚßæÚ ·ð ¥¢Ï çßÚæðçÏØæ𢠷ð çÜ° Øã ÂýàÙ çÈÁêÜ ãñ, ç·¢Ìé ÖæÚÌ ·ð ÖçßcØ ÂÚ »ãÚæ§ü âð çß¿æÚ ·ÚÙð ßæÜæ𢠷ð ¥ÙéâæÚ ÖæÁÂæ çÁâ çß¿æÚÏæÚæ ·æ ÂýçÌçÙçÏˆß ·ÚÌè Íè, ©â·æ °· âÿæ× °ß¢ SßSÍ â¢»ÆÙ ·ð M ×ð¢ ÕÙð ÚãÙæ ¥æßàØ· ãñÐ §â×¢ð ç·âè ·ô àæ· Ùãè´ ãñ ç· Áô Üæð» §â â×Ø ÖæÁÂæ ·æð ¿Üæ Úãð ãñ´, ©Ù·ð Âæâ ÂæÅèü ·æð Õ¿æÙð, çÈÚ âð ÜÿØçÙcÆ ÕÙæ·Ú Áèß¢Ì ¥æñÚ ÁÙæ·áü· ⢻ÆÙ ×ð¢ ÂçÚ‡æÌ ·ÚÙð ·è Ù Ìô §‘Àæ ãñ ¥õÚ Ù ãè ØôÁÙæÐ §ââð ãæSØæSÂÎ ÕæÌ vØæ ãæð â·Ìè ãñ ç· ç¿¢ÌÙ ÕñÆ· ãæð Úãè ãñ ÂæÅèü ·æð Õ¿æÙð ·ð çÜ°, ¥æñÚ ¥ŠØÿæ ·ã Úãð ãñ´ ç· ¥»Üè ·æØü·æçÚ‡æè ×ð¢ çÙ‡æüØ çÜØæ Áæ°»æÐ §â Õè¿ ÖçßcØ ·è °· ·æØüØæðÁÙæ ÕÙð»è, çÁâð ÅæS· ¥ãðÇ ·ð Ùæ× âð ÁæÙæ Áæ°»æÐ Ìæð çÈÚ ç¿¢ÌÙ ÕñÆ· ·è ¥æßàØ·Ìæ vØæ Íè? ÙðÌæ Øã ·ñâð ÖêÜ »° ç· 2004 Üæð·âÖæ ¿éÙæß ×ð¢ð ÂÚæÁØ ·ð ÕæÎ ·æÈè ×ðãÙÌ âð ÅæS· ¥ãðÇ Ùæ×· ÎSÌæßðÁ ÕÙæ Íæ, çÁâ×ð¢ ÖæÁÂæ ·ð ÿæÚ‡æ ·ð ·æÚ‡ææð¢ âð Üð·Ú ÖçßcØ ·ð çÜ° ·æØüØæðÁÙæ°¢ Íè¢Ð ¥»Ú ©Ù ÂÚ ¥×Ü ãé¥æ ãôÌæ, Ìæð ¥æÁ ÂæÅèü ·è Øã ÎéÎüàææ Ùãè´ ãæðÌèÐ

 

ç·¢Ìé ©‹ãð´ ¥×Ü ×ð¢ ÜæÌæ ·æñÙ? çÁÙ ÙðÌæ¥æ𢠷ð çÜ° ·ðßÜ ¥ÂÙè ÃØçvÌ»Ì Àçß ¥æñÚ ãñçâØÌ ¥ãç×ØÌ Ú¹Ìè ãæð, ßð °ðâæ ·Ú ãè Ùãè¢ â·Ìð ÍðÐ çÈÚ ©â ÅæS· ¥ãðÇ ·æ çßàÜðá‡æ §Ù âÕ·æð ãè ·ÆƒæÚð ×ð´ ¹Ç¸æ ·ÚÌæ ÍæÐ ©â·ð ¥ÙéâæÚ, ¥»Ú ÂæÅèü ÂÚ SßæÍèü, â}ææÜæðÜé Üæð»ô´ ·æ ß¿üSß Õɸæ, ØçÎ çß¿æÚÏæÚæ ¥æñÚ â¢»ÆÙ çÙcÆæ ·è Á»ã ÙðÌæ¥æ𢠷è ÂçÚ·ý×æ ãè ç·âè ·æð ÂÎ ¥æñÚ çÅ·Å ÎðÙð ·è ·âæñÅè ãæ𠻧ü, Ìæð §â·ð çÜ° Îæðáè ·æñÙ ãñ? Ø·èÙÙ çÁÙ·ð ãæÍæð¢ ÂæÅèü ⢿æÜÙ ·æ ÎæçØˆß ÍæÐ ©â â×Ø ç·âè ·æ Ùæ× Ù ÜðÌð ãé° Öè ÂæÅèü Ùð ÕãéÌ ãÎ Ì· â¿æ§ü ·è ¥æˆ×Sßè·ëçÌ ·æ âæãâ çιæØæ ÍæÐ ØæÙè ÖçßcØ ·è ·æØüØæðÁÙæ ÂæÅèü ·ð ¥çÖÜð¹æ»æÚ ×ð¢ ×æñÁêÎ ãñ ¥æñÚ °ðâè ç·âè Ù§ü ØæðÁÙæ ·è ÕæÌ ·ÚÙæ ·æØü·Ìæü ·æð Öýç×Ì ·ÚÙð ·è ·é¿ðcÅæ ÖÚ ãñÐ Øð Üô» çιæÙæ ¿æãÌð ãñ´ ç· ã× ÂæÅèü ·æð ÎéLSÌ ·ÚÙð ·ð çÜ° ßæ·§ü ·éÀ ·Ú Úãð ãñ¢Ð Üðç·Ù Õè×æÚè §â ¥ßSÍæ ×ð¢ Âã颿 »§ü ãñ ç· ç·âè ·æð ÕÚ»ÜæÙæ â¢Öß Ùãè´ Úãæ ãñÐ

 

âæÈ ãñ ç· ·ð´¼ý âð Üð·Ú Úæ…Øô´ ×ð´ Áæð ÙðÌæ §â â×Ø Øæ ·éÀ â×Ø Âêßü Ì· çÙ‡æüØ·Ìæü¥æð¢ ·è Ÿæð‡æè ×ð¢ Íð, ßð ãè ÎéÎüàææ ·ð Îôáè ãñ´, §âçÜ° âÕâð ÂãÜð ©Ùâð ⢻ÆÙ ·ô ×éçvÌ çÎÜæÙð ·è ÁMÚÌ ãñÐ Üðç·Ù Øð ¹éÎ °ðâæ ·ÚÙð ßæÜð Ùãè´ ãñ´Ð ·éÀ Üæð» Øã Ì·ü Îð Úãð ãñ´ ç· ¥»Ú âæÚð ÙðÌæ ˆØæ»Â˜æ Îð Îð´, Ìæð çÈÚ ÂæÅèü ¿Üð»è ·ñâð? çÙçà¿Ì M âð §ââð ¥ÚæÁ·Ìæ ÂñÎæ ãô Áæ°»è, ÂÚ ¥æÁ ·è ¥ÚæÁ·Ìæ Ìô ·ãè´ …ØæÎæ çßÙæàæ· ¥æñÚ àæ×üÙæ· ãñÐ §âçÜ° ·éÀ â×Ø ·è ¥ÚæÁ·Ìæ ·æð Sßè·æÚ ·ÚÌð ãé° §Ù âÕ·æð ÂèÀð ãÅÙð ·ð çÜ° çßßàæ ·ÚÙð ·è ¥æßàØ·Ìæ ãñÐ §Ù·è Á»ã °· ⢿æÜ· ×¢ÇÜ ÕÙæ·Ú ÖæÁÂæ ·æ ßñ¿æçÚ· ¥æñÚ â梻ÆçÙ· ÂéÙ»üÆÙ ç·Øæ Áæ â·Ìæ ãñÐ ·éÀ Üæð» â¢ƒæ ·ð ãSÌÿæð ·è ©{×èÎ ·Ú Úãð ãñ´Ð ÂÚ â¢ƒæ ãSÌÿæð ·Úð»æ, §â×ð¢ â¢Îðã ãñÐ âÚ⢃æ¿æÜ· ×æðãÙ Öæ»ßÌ Ùð °· âæÿæ户æÚ ×𢠷ãæ ãñ ç· ÜæÜ·ëc‡æ ¥æÇßæ‡æè ©Ùâð ç×ÜÙð ¥æ° ÍðÐ ©‹ãô´Ùð ÁÙ⢃æ âð Üð·Ú ¥æÁ Ì· ·è ¥ÂÙè Øæ˜ææ ·è ¿¿æü ·ÚÌð ãé° ßÌü×æÙ çSÍçÌ ·æð ¥·ËÂÙèØ ÕÌæØæ, Ìæð ×ñ´Ùð ·ãæ ç· ¥æ ¥ÙéÖßè ÚæÁÙðÌæ ãñ´ ¥æñÚ ¥æÂ·æ ·Î çÁÌÙæ ÕǸæ ãñ, ©â×ð¢ ØçÎ ¥æ ·æð§ü çÙ‡æüØ Üð´»ð, Ìæð ©â·æ âÕ ¥ÙéÂæÜÙ ·Úð¢»ðÐ â¢ƒæ ·ð àæèáü ÂéLá ·ð °ðâð çß¿æÚ ·ð ÕæÎ ©ââð ç·âè ·ýæ¢çÌ·æÚè ·Î× ·è ©{×èÎ ¥Öè Ùãè´ ·è Áæ â·ÌèÐ

 

§âçÜ° ¥Õ ÚæSÌæ °· ãè ãñÐ Îðàæ ÖÚ ×ð¢ Áæð Öè ÖæÁÂæ °ß¢ â¢ƒæ ·è ×êÜ çß¿æÚÏæÚæ °ß¢ ßÌü×æÙ ÚæcÅþèØ ¥æñÚ ¥¢ÌÚÚæcÅþèØ çSÍçÌØæ𢠷æð â×ÛæÌð ãñ´, ©Ù×ð´ âð ·éÀ ·æð ¥æ»ð ¥æ·Ú ßÌü×æÙ ÖæÁÂæ âð ÂÚð çß¿æÚ-çß×àæü ·è o뢹Üæ ¥æÚ¢Ö ·ÚÙè ¿æçã°Ð §Ù×ð¢ âð ÖæÁÂæ ·ð çÜ° ßñ¿æçÚ· °ß¢ â梻ÆçÙ· °Áð¢Çæ ÕÙæØæ Áæ°Ð §â·ð ÕæÎ §Ù·æ ÚæcÅþèØ °ß¢ ©ââð Ùè¿ð ·ð SÌÚæð¢ ÂÚ â×æÙæ¢ÌÚ â{×ðÜÙ ÕéÜæ·Ú §â °Áð´Çð ·ô Ú¹æ Áæ°Ð §Ù×¢ð Áæð âßüâ{×çÌ âð ÌØ ãæð Áæ°, ©âð Sßè·æÚ ·Ú Îðàæ ·ð âæ×Ùð Ú¹ çÎØæ Áæ°Ð ©â·ð ÕæΠ⢻ÆÙ çÙ×æü‡æ ·è ·æðçàæàæ ¥æÚ¢Ö ãæðÐ ¥»Ú Æè· âð §â ¥çÖØæÙ ·æð ¿ÜæØæ Áæ°, Ìæð ßÌü×æÙ ÖæÁÂæ ·ð ÙðÌæ °ß¢ âæ¢âÎæð¢, çßÏæØ·æð¢ ÌÍæ ©Ùâð ÁéǸð Üæð»æð¢ ×ð´ âð ·éÀ ·ô ÀôǸ·Ú âÕ §ââð ÁéǸ â·Ìð ãñ´Ð Øã âæÏæÚ‡æ ·æ× Ùãè´ ãñ, ÂÚ §â·ð ¥Üæßæ ÖæÁÂæ ·æð Õ¿æÙð ·æ ·æð§ü ÃØæßãæçÚ· ÚæSÌæ ÙÁÚ Ùãè´ ¥æÌæÐ

 

¥ßÏðàæ ·é×æÚ (Üð¹· ßçÚcÆ Â˜æ·æÚ ãñ´)

 

*************************************

vej mtkyk

ŸæðcÆÌæ ·ð 뢅 âð ÕðÜ»æ× ¥×ðçÚ·è

çÂÀÜð çÎÙæð´ Îðàæ ·ð Âêßü ÚæcÅþÂçÌ ÇæòvÅÚ °ÁèÁð ¥yÎéÜ ·Üæ× ·ð âæÍ °· ¥×ðçÚ·è çß×æÙÙ ·¢ÂÙè ·ð ¥×ØæüçÎÌ ¥æ¿Ú‡æ ÂÚ Îðàæ ÖÚ ×ð´ ÁÕÎüSÌ ÂýçÌç·ýØæ ãé§ü ÍèÐ ¥æñÚ §â â¢ÎÖü ×ð´ ·ð´¼ý âÚ·æÚ ·ð Ì˹ ÌðßÚ ·æð Îð¹Ìð ãé° ãè çß×æÙ ·¢ÂÙè ·æð Çæò. ·Üæ× âð ×æÈè ×梻Ùè ÂǸè ÍèÐ Üðç·Ù °ðâæ Ü»Ìæ ãñ ç· ¥×ðçÚ·è ¥çÏ·æçÚØæð´ Ùð ©â ƒæÅÙæ âð ·æð§ü âÕ· Ùãè´ ÜèÐ ßÚÙæ ßð ÖæÚÌ ·ð SßÌ¢˜æÌæ çÎßâ ·ð çÎÙ ©â·ð °· ×àæãêÚ ¥çÖÙðÌæ ·ð âæÍ ÂêÀÌæÀ ·ð Ùæ× ÂÚ ¥Ö¼ý ÃØßãæÚ Ùãè´ ·ÚÌðÐ ¿ê¢ç· àææãL¹ ·ð ¿æãÙð ßæÜð ÎéçÙØæ ÖÚ ×ð´ ãñ´, §âçÜ° Ùðßæ·ü ãßæ§ü ¥Ç÷Çð ·è ƒæÅÙæ ÂÚ ¥×ðçÚ·è ¥çÏ·æÚè ãÚ·Ì ×ð´ ¥æ° ¥æñÚ ¥ÂÙè ÌÚÈ âð §â·è âÈæ§ü Âðàæ ·èÐ ¥ÜÕ}ææ, °ðâð ÖæÚÌèØæð´ ·è °· Ü¢Õè ÈðãçÚàÌ ãñ, çÁ‹ãð´ ¥×ðçÚ·è Á梿 ¥çÏ·æçÚØæð´ ·ð ãæÍæð´ ¥Â×æÙ ÛæðÜÙæ ÂǸæÐ §ÚÈæÙ ¹æÙ, ÙèÜ çÙçÌÙ ×é·ðàæ ¥æñÚ ÁæòÙ ¥Õýæã× ©Ù×ð¢ àææç×Ü ãñ´Ð

 

âÕâð Ìæ·ÌßÚ ãæðÙð ·æ »é×æÙ ¥×ðçÚ·è ÚæÁÙçØ·æð´ ·æð ãè çâÈü Ùãè´ ãñ, ©â·ð ÀæðÅð ¥ÈâÚ Öè ŸæðcÆÌæ »ý¢çÍ ·ð çàæ·æÚ ãñ´Ð ©Ù·è çÙ»æã ×ð´ ç·âè »ñÚ¥×ðçÚ·è àæwâèØÌ ·æ ·æð§ü ×æðÜ Ùãè´...

 

§ÚÈæÙ ¹æÙ ·æð ×éâÜ×æÙ ãæðÙð ·ð ·æÚ‡æ ¥Â×æçÙÌ ãæðÙæ ÂǸæ, Ìæð ÙèÜ çÙçÌÙ ×é·ðàæ Ùð §â ·æÚ‡æ ¥Â×æÙ Öé»Ìæ, vØæð¢ç· ßã ÕãéÌ »æðÚð ãñ´ ¥æñÚ ©Ù·æ Ú¢», ©Ù·ð çã¢Îê Ùæ× âð ×ðÜ Ùãè´ ¹æÌæÐ ©ÏÚ ÁæòÙ ¥Õýæã× §âçÜ° â¢Îðã ·ð ƒæðÚð ×ð´ ¥æ »°, vØæð¢ç· ©Ù·ð ÂæâÂæðÅü ×ð¢ ©Ù·è ¥È»æçÙSÌæÙ Øæ˜ææ ·æ çÁ·ý ÍæÐ Âêßü ×ð´ Îðàæ ·ð ßçÚcÆ ×¢ç˜æØæð¢ ÁæòÁü ÈÙæZÇèâ ¥æñÚ Âý‡æÕ ×é¹Áèü ·è Áæ×æÌÜæàæè ·è ãè Áæ ¿é·è ãñÐ ¥×ðçÚ·è ¥çÏ·æçÚØæ𢠷ð §â ¥Ö¼ý ÃØßãæÚ ·ð ÂèÀð ×éwØÌÑ 9/11 ·ð ÕæÎ ¥×ðçÚ·æ ×ð´ çß·çâÌ ãé§ü §âÜæ× çßÚæðÏè ×æÙçâ·Ìæ ãñÐ çÈÚ ¥×ðçÚ·è ¥çÏ·æçÚØæð¢ ×𢠥㢷æÚ ¥æñÚ ŸæðcÆÌæ ·æ Öæß Öè ·êÅ-·êÅ·Ú ÖÚæ ãñÐ âæðçßØÌ â¢ƒæ ·ð ÂÌÙ ·ð ÕæÎ, ¥×ðçÚ·æ çßàß ·è °·×æ˜æ ×ãæàæçvÌ ãñ ¥æñÚ ÎéçÙØæ ×ð¢ âÕâð Ìæ·ÌßÚ Îðàæ ãæðÙð ·ð Öæß Ùð ãè ©â·ð ¥çÏ·æçÚØæ𢠷æð ¥ã¢·æÚè °ß¢ ¥çàæcÅ ÕÙæ çÎØæ ãñ

çÂÀÜè âÎè ·ð ×ŠØ âð çßçÖ‹Ù Îðàææð´ ·ð Õè¿ â×æÙÌæ ¥æñÚ Õ¢Ïéˆß ·æ Öæß ©ÖæÚÙð ·è Áæð ßñçàß· Âýç·ýØæ àæéM ãé§ü Íè, ©âð §Ù ¥æ¿Ú‡ææð´ âð »ãÚæ Ïv·æ Ü»æ ãñÐ ¥×ðçÚ·æ ·ð ÂãÜð ¥àßðÌ ÚæcÅþÂçÌ âð ÎéçÙØæ ·æð ·æÈè ©{×èÎð´ Íè´, Üðç·Ù ¥æðÕæ×æ ·æ ×æÙßèØ ¿ðãÚæ Öè ¥×ðçÚ·è ÃØßSÍæ ·è ãÆÏç×üÌæ ·× Ùãè´ ·Ú â·æ ãñÐ Øã Æè· ãñ ç· ©‹ãæð´Ùð ‚ßæ¢ÌæÙð×æð Õð ·è ÁðÜ Õ¢Î ·ÚÙð ·æ ÈñâÜæ ·Ú·ð 9/11 ·ð ¥æÚæðçÂØæð´, çßàæðá·Ú ×éâçÜ× Øéß·æ𢠷æð Ø¢˜æ‡ææ ¥æñÚ ¥Â×æÙ âð Õ¿æØæ ãñÐ §â·ð çÜ° ©Ù·è âÚæãÙæ ãè ·è Áæ°»è, ÂÚ¢Ìé °ðâè ÂýÌè·æˆ×· âéÏæÚæð´ âð ãè ¥×ðçÚ·æ ·è Á×èÙè ã·è·Ì Ùãè´ ÕÎÜ ÁæÌèÐ ©â·è ÙèçÌØæ¢, ×æÙçâ·Ìæ ¥æñÚ ÎëçcÅ·æð‡æ ¥æÁ Öè §âÜæ× ¥æñÚ ×éâçÜ× çßÚæðÏè ãñÐ

9/11 ·ð ã×Üð ¥æñÚ ©â·ð ÕæÎ ¥æðâæ×æ-çÕÙ-ÜæÎðÙ mæÚæ ÁæÚè ç·° »° ÖǸ·æª ßvÌÃØ §âÜæ× ¥æñÚ ×éâÜ×æÙæð´ ·ð ç¹ÜæÈ Âý¿æÚ Øéh àæéM ·ÚÙð ·æ ÕãæÙæ ÕÙðÐ §âèçÜ° Ò§âÜæç×· ¥æÌ¢·ßæÎÓ àæyÎ »É¸æ »Øæ ¥æñÚ ÁðãæÎ °ß¢ ·æçÈÚ Áñâè §âÜæç×· ¥ßÏæÚ‡ææ¥æð´ ·æð çß·ëÌ ·Ú·ð ÁÙÌæ ·ð âæ×Ùð ÂýSÌéÌ ç·Øæ »ØæÐ ×éâÜ×æÙæð´ ¥æñÚ §âÜæ× ·ð ÂýçÌ âéçÙØæðçÁÌ ÌÚè·ð âð ƒæë‡ææ ÂñÎæ ·è »§üÐ ÁðãæÎ ·æ ¥Íü ¥‹ØæØ ·ð ç¹ÜæÈ Á¢» ãñ, ÂÚ¢Ìé ©âð »ñÚ-×éâÜ×æÙæð´ ·æ âÈæØæ-¥çÖØæÙ ÕÌæØæ »ØæÐ §â âƒæÙ Âý¿æÚ Øéh ·æ ÙÌèÁæ Øã çÙ·Üæ ç· Ü»Ö» ÂêÚè ÎéçÙØæ ·ð ¥æ× Üæð»æ𢠷ð ×Ù ×ð¢ Øã ÕæÌ ƒæÚ ·Ú »§ü ·è ÖÜð ãè âæÚð ×éâÜ×æÙ ¥æÌ¢·ßæÎè Ù ãæð´, ÂÚ¢Ìé âæÚð ¥æÌ¢·è ×éâçÜ× ãñ´Ð ¥×ðçÚ·æ ·ð ¥çÏ·æÚè ß»ü, çßàæðá·Ú ¥æßýÁÙ ¥æñÚ ÂéçÜâ ¥çÏ·æçÚØæð¢ Ùð ×éâÜ×æÙæ𢠷ð ÂýçÌ ¥ÂÙæ L¹ ·Ç¸æ ·Ú çÜØæÐ ÎêâÚð Îðàææð´ ×ð´ Öè °ðâæ ãé¥æÐ

Âæç·SÌæÙè çÈË× ¹éÎæ ·ð çÜ° ×ð´ °· °ðâð ¥æ× ×éâÜ×æÙ ·è ÃØÍæ ·æ 翘æ‡æ ç·Øæ »Øæ ãñ, çÁâ ÂÚ ¥×ðçÚ·è ¥çÏ·æçÚØæ𢠷æð ¥æÌ¢·ßæÎè ãæðÙð ·æ â¢Îðã ãñÐ ÖæÚÌèØ çÈË× ‹ØêØæò·ü Öè ¥×ðçÚ·è ¥çÏ·æçÚØæ𢠷ð ·ýêÚ °ß¢ â¢ßðÎÙãèÙ ÚßñØð ÂÚ Ìè¹è çŌ‡æè ·ÚÌè ãñÐ ã×æÚð Îðàæ ×ð´ Öè §â ×æÙçâ·Ìæ ·æð Îæð çÈË×æð´, yÜñ· °ð´Ç uæ§Å ¥æñÚ ×é¢Õ§ü ×ðÚè ÁæÙ ×ð´ ©·ðÚæ »Øæ ãñÐ ÕãÚãæÜ, §â çßáØ ÂÚ ÕãéÌ ·éÀ çÜ¹æ »Øæ ãñ, ÂÚ¢Ìé çÈÚ Öè ¥×ðçÚ·è ×èçÇØæ ·ð °· çãSâð ¥æñÚ ÎéçÙØæ ÖÚ ·ð âæ¢ÂýÎæçØ· ̈ßæð´ mæÚæ ×éâÜ×æÙæð´ ·ð ç¹ÜæÈ Ü»æÌæÚ Âý¿æÚ ¥çÖØæÙ ¿ÜæØæ Áæ Úãæ ãñÐ

¥æÌ¢·ßæÎ °· ÁçÅÜ â×SØæ ãñÐ ¥Ü-·æØÎæ Áñâð ⢻ÆÙæ𢠷ð Á‹× ·ð ÂèÀð Âæç·SÌæÙ ×ð´ SÍæçÂÌ ç·° »° ×ÎÚâð ãñ´Ð §Ù ×ÎÚâæð´ ·æ ÂæÆ÷Ø·ý× ·Å÷ÅÚ¢çÍØæð´ Ùð ÌñØæÚ ç·Øæ Íæ ¥æñÚ §‹ãð´ ¥æçÍü· â¢âæÏÙ âè¥æ§ü° ©ÂÜyÏ ·ÚæÌæ ÍæÐ ©Î÷ÎðàØ Øã Íæ ç· §Ù ×ÎÚâæð¢ âð Âɸ·Ú çÙ·Üð ·Å÷ÅÚ¢Íè ×éâçÜ× Øéßæ ¥È»æçÙSÌæÙ ×ð´ ·æçÕÁ âæðçßØÌ âðÙæ¥æð´ âð ×æðÚ¿æ Üð´»ðÐ §â ÕæÌ ·è ÌâÎè· ¥Õ Âæç·SÌæÙè ÙðÌæ Öè ·Ú Úãð ãñ´Ð

ã× ÖæÚÌèØ ¥ÂÙð ÙðÌæ¥æ𢠥æñÚ Ùæ׿èÙ àæwâèØÌæð´ ·ð ¥×ðçÚ·è ¥Â×æÙ âð ¥æãÌ ß ·ýæðçÏÌ ãñ´Ð Ø·èÙÙ Øã Îðàæ ·æ ¥Â×æÙ ãñÐ °ðâð ×ð´, ·ð´¼ýèØ âê¿Ùæ °ß¢ ÂýâæÚ‡æ ×¢˜æè ¥¢çÕ·æ âæðÙè ·æ Øã ÂýSÌæß çß¿æÚ ç·° ÁæÙð ·ð Øæð‚Ø ãñ ç· ã×ð¢ Öè ÒÁñâð ·æð ÌñâæÓ ·è ÙèçÌ ¥ÂÙæÙè ¿æçã°Ð

Úæ× ÂéçÙØæÙè (Üð¹· ¥æ§ü¥æ§üÅè, ×é¢Õ§ü ×ð´ Âêßü ÂýæŠØæ· ß ÙðàæÙÜ ·{ØêÙÜ ãæ×üÙè ¥ßæÇü âð â{×æçÙÌ ãñ´)

***************************************

vej mtkyk

ÕæÕé¥ô´ ÂÚ Ü»æ×

 

âÚ·æÚ ·ð °· ÀôÅð-âð ç¿¢ÌÙ Ùð ·§Øô´ ·ð ÜÜæÅ ÂÚ ÕǸè-ÕǸè Úð¹æ°¢ ¹è´¿ Îè ãñ´Ð ÎÚ¥âÜ âÚ·æÚ ¥Õ ÕæÕé¥ô´ ÂÚ Ü»æ× Ü»æÙð ·è ÌñØæÚè ×ð´ ãñ, Æè· ©â ç·âæÙ ·è ÌÚã, Áô ¥ÂÙð çջǸñÜ ÕñÜ ·è Ùæ· ×ð´ ÀðÎ ·Ú ©â×¢ð Ù·ðÜ ÇæÜ ÎðÌæ ãñÐ ¥ÂÙæ ÕæÕê ¥õÚ ¿æãð ·éÀ ãô, Üðç·Ù çջǸñÜ ÕñÜ Ùãè´ ãñ´Ð ßã Õð¿æÚæ Ìô ç·âè âð âè´» Öè Ùãè´ çÖǸæÌæÐ ãæ¢, ÍêÍÙ ÁMÚ ¿ÜæÌæ ãñÐ

 

·æ× ·è âÙæÌÙè ¿æÜ ¥õÚ Èæ§Üô´ ·æ ª¢¿æ Á¢ÁæÜ Îð¹ ·ô§ü Öè °ðÚæ-»ñÚæ ÙˆÍê-¹ñÚæ ©â·ð âæ×Ùð ç×ç×ØæÙð âð Üð·Ú ¥æ¢¹ çιæÙð ÌÍæ ¹êÕâêÚÌ »æçÜØô´ âð Üð·Ú ÒÎð¹Ó ÜðÙð Ì· ·æ ÖõçÌ· ÂýÎàæüÙ ·ÚÌæ ãñÐ »Üè Àæ ÙðÌæ âð Üð·Ú ª¢¿ð ÂæØÎæÙ ßæÜð ÙðÌæ¥ô´ ·æ Ìô Øã ¥çÏ·æÚ ãè ãôÌæ ãñ ç· ßã ÕæÕé¥ô´ ·ô ¥ÂÙð ƒæÚ ·æ ·é}ææ â×Ûæð´Ð ×õÙ Úã·Ú ÍŒÂǸ ¹æÙæ »æ¢Ïè»èÚè ãñ, Ìô âÕ ·éÀ âéÙ·Ú Öè ç¹ç¹ØæÙæ ÕæÕê»èÚè ãñÐ

 

ÕæÕé¥ô´ ×ð´ âð ÕæÕê»èÚè çÙ·Ü »§ü, Ìô Õ¿ð»æ vØæ? çÈÚ Ìô ßð ¿êâð ãé° ¥æ× ãô Áæ°¢»ðÐ °ðâð ÚâãèÙ ¥æ× ·ð çÜ° ·ô§ü Ü·Ìæ ãñ Öüæ?

 

°ðâð ¥çã¢â· Áèß ÂÚ âÚ·æÚ çÌÚÀè çÙ»æã ÇæÜ Úãè ãñÐ çÕÙæ Øã âô¿ð ç· §ââð ç·ÌÙð Üô»ô´ ·æ ¥çãÌ ãô Áæ°»æÐ ç·âè ÕæÕê ·ô ÂçÌ ·ð M ×ð´ ÂæÙð ·è Ì׋Ùæ ÂÚ Õýð· Ü» Áæ°»æÐ ÕæÕê ×ð´ âð ÕæÕê»èÚè çÙ·Ü »§ü, Ìô çÈÚ Õ¿æ vØæ? ßã Ìô °· ¿êâæ ãé¥æ ¥æ× ãô»æÐ ¥æ× ·è ¥æðÚ ·ô§ü vØô´ Ü·Ìæ ãñ? ¿êâÙð ·ð çÜ°Ð ·‹Øæ ·æ çÂÌæ Øô´ ãè ¥ÂÙè ÕðÅè ç·âè ·×üÆ ¥õÚ §ü×æÙÎæÚ ¥ÈâÚ ·ð ãæÍô´ âõ´Â·Ú ©â·è çÁ¢Î»è ·æ âˆØæÙæàæ Ùãè´ ·Ú â·ÌæÐ ¥ÙéÖß Ùð ¥ÂÙè Ù¢»è ¥æ¢¹ô´ âð°· ¥ÈâÚ ·ô ÁèßÙ ÖÚ °· ¹ÅæÚæ ¹è´¿Ìð ãé° Îð¹æ ãñ, ßãè´ ÕæÕê âæÜ-Çðɸ âæÜ ×ð´ ¿æÚ ¿v·æ ÕÎÜ ãè ÜðÌæ ãñ

 

¥ÈâÚ ÌèÙ ·×Úæð´ ·ð âÚ·æÚè ×·æÙ ×ð´ ¥ÂÙæ ¥æñÚ ¥ÂÙð ÂêÚð ÂçÚßæÚ ·æ ÁèßÙ âˆØæÙæàæ ·ÚÌæ ãñ, §ÏÚ ÕæÕê ¥ÂÙð Õ¢»Üð ×ð´ ÁèßÙ ·æ çß·æâ ·ÚÌæ ãñÐ

ÎêËãæ ç·ÇÙñ âçßüâ ßæÜð Öè Îé¹è ãñ´Ð ÕæÕé¥ô´ ·è çÇ×æ¢Ç ¥¿æÙ· ·× ãô »§ü ãñÐ ÇæòvÅÚ ¥õÚ §¢ÁèçÙØÚ ·ð Ùè¿ð ¿Ü Úãð ÚðÅ ©ÕæÜ ¹æÙð Ü»ð ãñ´Ð âçßüâ ßæÜð §âçÜ° Îé¹è ãñ´ ç· ÕæÕê ¹éàæè-¹éàæè ç·ÇÙñ ãô ÁæÌæ Íæ, ÁÕç· ÇæòvÅÚ, §¢ÁèçÙØÚ ¥õÚ ¥ÈâÚ Öæß ¹æÌð ãñ´Ð

 

©ÏÚ Ø×ÂéÚè ×ð´ ¥æÌ¢· ·è çSÍçÌ ãñÐ »éŒÌ °Áð´çâØô´ Ùð âê¿Ùæ Îè ãñ ç· °· âæÍ âñ·Ç¸ô´ ÕæÕê ÏÚÌè ÂÚ ¥æˆ×ãˆØæ ·ð çÜ° »éŒÌ ÕñÆ·ð´ ·Ú Úãð ãñ´Ð ßãæ¢ Ø×ÚæÁ Ùð ãæ§ü ¥ÜÅü ƒæôçáÌ ·Ú çÎØæ ãñР翘æ»éŒÌ ·ô ÂâèÙð ¥æ Úãð ãñ´Ð ÎÚ¥âÜ ÏÚÌè ·ð ¥ÂÙð ÖæÚÌèØ ·æ©¢ÅÚÂæÅü âð ©‹ãð´ ã×ðàææ ÖØ Ü»æ ÚãÌæ ãñР翘æ»éŒÌ ·è ×ðÁ ã×ðàææ âæÈ ÚãÌè ãñÐ ·ãè´ ·ô§ü Èæ§Ü Âð´çÇ¢» ×ð´ Ùãè´Ð °· ÕæÚ ¥æˆ×ãˆØæ ·Ú ÁÕÚÎSÌè Ø×ÂéÚè ×ð´ ¥æØæ °· ÕæÕê §â ÕæÌ ÂÚ ¥Ç¸ »Øæ ç· ©â·è Èæ§Ü ÌéÚ¢Ì Ù çÙÂÅæ§ü Áæ°Ð ©â·è ¥æˆ×æ ·ô vÜðàæ ãô»æÐ ÕæÕê ·ô§ü Øô´ ãè ÂñÎæ Ùãè´ ãôÌæÐ âõ ƒææƒæ ×ÚÌð ãñ´, Ìô °· ÕæÕê ÂñÎæ ãôÌæ ãñÐ °ðâð ÎéÜüÖ Áèß ÂÚ âÚ·æÚ ·è ÒÎéÜüÖÓ ÙÁÚ vØæ Æè· ãñ?

 

Á‹×ðÁØ çÌßæÚè

***************************************

******************************************************************************

nSfud HkkLdj

राजनीतिक इच्छाशक्ति से मिटेगा भ्रष्टाचार

 

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने बुधवार को खुद की और देश की दुखती रग को छेड़ दिया। उन्होंने कहा है कि सर्वव्यापी भ्रष्टाचार ने देश की छवि बिगाड़ दी है और तकनीक अर्थ की दुनिया में अपना झंडा बुलंद करने के बावजूद दुनिया की नजरों में हमारा सम्मान नहीं बढ़ रहा। ऐसा कहकर प्रधानमंत्री ने सच का सामना तो कर लिया है पर भ्रष्टाचार के सुरसा से निपटने की कोई ठोस रणनीति नहीं बताई।

 

बाकी दुनिया में बिगड़ती छवि से जो नुकसान होते हैं वे उन्होंने जरूर गिनाए। प्रधानमंत्री के सामने ताजा उदाहरण भी था। स्विट्जरलैंड ने भारत के इस अनुरोध को नकार दिया कि वह स्विस बैंकों में भारतीय नागरिकों के काले धन का खुलासा करे। ब्रिटेन, जर्मनी और संयुक्त राज्य के ऐसे ही अनुरोध को स्विस सरकार ने मान लिया था। हालांकि यह खुलकर नहीं कहा गया पर संकेत स्पष्ट था: उन्हें भरोसा नहीं कि भारत सरकार स्विस बैंक में पैसे जमा करने वाले धनाढ्य लोगों के साथ न्याय करेगी या भारतीय व्यवस्था उन्हें ब्लैकमेल नहीं करेगी।

 

साल दर साल ट्रांसपेरैंसी इंटरनैशनल की रिपोर्ट में लोकतांत्रिक भारत का नाम दुनिया के ठग और तानाशाह देशों के साथ आता रहा है। दुनिया की कई बड़ी कंपनियां यहां निवेश से घबराती हैं क्योंकि लालफीताशाही उनकी नाक में दम कर देती है और नेता उनको चूस लेते हैं। राजनीति अपनी सफाई कर ले तो नौकरशाही स्वयं रास्ते पर जाएगी।

 

प्रधानमंत्री के पहले सौ दिन के एजेंडे में यह नहीं था पर अगर अगले पांच साल में नेता-नौकरशाह गठबंधन पर लगाम कस जाए तो विदेशी निवेश ही नहीं, देशी निवेश भी सार्थक हो जाएगा। प्रधानमंत्री ने हजारों करोड़ रुपए गांवों के विकास के लिए रखे हैं, लेकिन अगर भारत ने भ्रष्टाचार पर नियंत्रण नहीं किया तो इसका एक बहुत छोटा हिस्सा ही गांवों तक पहुंच पाएगा।सीबीआई से कहा गया है कि वह बड़ी मछलियां पकड़े।

 

पर इसके लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति की आवश्यकता है और यहीं प्रधानमंत्री को आत्ममंथन करना है। सीबीआई कांग्रेसी नेता और अनुसूचित जाति आयोग के मुखिया बूटा सिंह से सवाल तक नहीं पूछ पा रही है। सीबीआई भी प्रधानमंत्री के अधीन है और यह भी प्रधानमंत्री के अधिकार क्षेत्र में है कि वह बूटा सिंह से पूछताछ को तैयार होने को कहें या बेदाग साबित होने तक पद छोड़ने को कहें। सीबीआई को फटकारने से स्थिति नहीं बदलेगी, राजनीतिक इच्छाशक्ति से बदलेगी।

 

***************************************

 

nSfud HkkLdj

हरियाणा  में बदला  सियासी  मौसम

सियासी मौसम सदा अनिश्चित होता है। शायद इसीलिए मुख्यमंत्री हुड्डा ने अपनी पहली पारी, समय से पूर्व ही घोषित कर दी। कायदे से यह विरोधी पक्ष के लिए एक निमंत्रण है, अपनी औकात दिखाने का। मुख्यमंत्री हुड्डा को जनादेश चाहिए अगले पांच वर्ष के लिए (हालांकि पहला जनादेश भी पांच वर्ष के लिए था)

हौसले बुलंद हैं मगर आने वाले मौसम का कोई भरोसा नहीं। सूखा, मंदी, महंगाई, कब जनता कामूडबिगाड़ दे, कहना मुश्किल। इसलिए ठीकठाक मौसम में ही चुनावी दांव खेलना सोची समझी रणनीति है। उधर, ७६ वर्षीय इनैलो-सुप्रीमो चौ. ओमप्रकाश चौटाला के लिए भी यह एक महत्वपूर्ण पारी है। इस बार भी पिछड़े तो बहुत कुछ छूट जाएगा। उम्र का भी तकाज़ा है। शारीरिक परेशानियों के बावजूद, राजनीतिक सक्रियता आभा मंडल अभी बरकरार है।

भाजपा से गठबंधन टूटने का उन्हें ज्यादा मलाल नहीं और वह एक अच्छी पारी खेलने केमूडमें हैं।उधर, नवगठित हजकां-बसपा गठबंधन चुनावों को भरपूर संसधनों, अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी और आक्रामक मार्केटिंग के माध्यम से लड़ने के लिए संकल्पबद्ध है। पहली बार हरियाणा में भजनलाल तकनीक मायावती शैली की संयुक्त रणनीति का एक प्रयोग होगा।

जोड़-तोड़ मेंपीएचडीभजनलाल और भाषणों में अपनी आक्रामक मुद्रा के लिए चर्चित मायावती, समीकरणों को कितना संवार-बिगाड़ पाते हैं, यह देखना दिलचस्प होगा। बहरहाल, ९क् अनार हैं और ९क्क् बीमार। देखें किस किसके हाथ में सत्ता का यह अनार लग पाता है।

तनाव के शिकार युवा मनोरोग चिकित्सक इन दिनों युवाएक्जीक्यूटिव्समें बढ़ती हताशा से चिंतित हैं। पीजीआई चंडीगढ़ के विशेषज्ञों के अनुसार युवा निरंतर तनाव, अनिद्रा, हताशा अनिश्चितता के शिकार हो रहे हैं। कमोबेश इन सब पर नौकरी-दाताओं का दबाव बना रहता है। निर्धारित लक्ष्यों की प्राप्ति नौकरी की पहली शर्त है। आठ घंटे की नौकरी के जमाने कब के बीत चुके। १क्-१२ घंटे की नौकरी अब आम बात है। प्रतिदिन इन्हंे आठ से दस घंटे कंप्यूटर-स्क्रीन पर नजरें गढ़ाए रखनी पड़ती हैं। इसका असर उनकी दृष्टि-क्षमता और चिंतन-क्षमता पर पड़ रहा है।

विशेषज्ञों के लिए गहरी चिंता का विषय यह है कि आने वाले पांच वर्षो में यह कार्य संस्कृति क्या गुल खिलाएगी। चिकित्सकों की दिक्कत यह भी है कि दवा के नाम पर उनके पास ज्यादारेंजनहीं औरकाउंसलिंगके लिए युवा एक्ज़ीक्यूटिव्स के पास ज्यादा वक्त नहीं है।कहां गए हिरण?यह प्रश्न ज्ञान-विज्ञान का भी है। क्या आप जानते हैं कि पंजाब में काले हिरणों का एक आरक्षित अभयारण्य (सैंक्चुरी) भी है। यह अभयारण्य, सैकड़ों किलोमीटरों में फैला है।

इसके रखरखाव के लिए बाकायदा स्टाफ नियुक्त है। बजट प्रावधान भी हैं। मगर हिरणों की इस प्रजाति के बारे में, पंजाब को तो छोड़िए, उस क्षेत्र अर्थात अबोहर, के लोगों को भी पता नहीं है, जहां यह कथित अभयारण्य मौजूद है। काश कि कोई बैजूबावरा होता जो अपनी राग-क्षमता से लापता हिरणों को एक बार फिर अपने पास बुला पाता?

Mk- panz f=[kk

***************************************

 

 

******************************************************************************

fgUnqLrku

आतंक  की हद

मंगलवार को उड़ीसा से पंजाब तक घटी आतंकी घटनाओं में कोई तालमेल भले रहा हो, लेकिन उन्हें एक साथ रख कर देखा जाए तो हमारी जमीन पर चल रहे आतंकवाद की मुकम्मल तस्वीर बनती है। अगर उड़ीसा, झारखंड और बिहार में माओवादी हिंसक गतिविधियों ने रेलवे की संपत्तियों और दूसरी व्यापारिक गतिविधियों को निशाना बनाया तो लुधियाना रेलवे स्टेशन पर बब्बर खासला के आतंकी ने एक की जान लेकर कुछ लोगों को घायल कर दिया। इस बीच महाराष्ट्र में विस्फोट करने जा रहे लश्कर--तैयबा के आतंकी की नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर गिरफ्तारी, तीसरे और सबसे खतरनाक आतंकी आयाम की ओर संकेत करती है। इसमें बब्बर खालसा यानी सिख आतंकवाद के खतरे को नगण्य मान लें तो भी माओवाद और इस्लामी आतंकवाद के खतरे को बड़ी चुनौती के रूप में देखा जाना चाहिए। पूर्वी भारत के जिन राज्यों में माओवादियों ने 48 घंटे के बंद का आह्वान किया था, वहां के कुछ इलाकों में वे समांतर सत्ता चला रहे हैं। इसीलिए बंगाल में सक्रियता दिखा कर लौट रहे अपने दो साथियों की रांची में गिरफ्तारी पर उन्होंने पटरियों पर विस्फोट करने, स्टेशन फूंकने और ट्रक जलाने तक की वारदातें कर डालीं।

वे माने तभी जब यह आश्वासन दिया गया कि गिरफ्तार किए गए उनके साथियों को अदालत में पेश किया जएगा, क्योंकि उन्हें मुठभेड़ में मारे जाने का डर था। माओवाद ग्रामीण आतंकवाद है, जिसका एक हिस्सा छापामार युद्ध का है तो दूसरा हिस्सा सामाजिक और आर्थिक समस्याओं का है। कहीं इन दोनों में संबंध होता है तो कहीं वे असंबद्ध होते हैं। उनकी इस संरचना को पहचान कर ही उनसे घरेलू स्तर पर निपटा सकता है। इसके लिए आदिवासियों और ग्रामीणों के लिए बनी उन स्थितियों को भी खत्म करना होगा, जिनसे उग्रवाद पनपता है। आतंक का दूसरा रूप लश्कर--तैयबा उसके जैसे अन्य संगठनों का है। यह वैश्विक शहरी आतंकवाद है, जिसका केंद्र पाकिस्तान है। यह बात दुनिया के ज्यादातर देश ही नहीं स्वयं पाकिस्तान भी मानता है। इसके लिए राष्ट्रीय  चौकसी और चुस्ती के अलावा अंतरराष्ट्रीय सहयोग जरूरी है। तभी भारत के नए दस्तावेज में लश्कर के संस्थापक हाफिज सईद से पूछताछ के लिए पाकिस्तान पर कड़ा दबाव डाला गया है। आतंक की इन भीतरी और बाहरी ताकतों से छिड़ी यह लड़ाई जटिल जरूर है, पर भारत के लिए इसे जीतना असंभव नहीं है।

***************************************

 

fgUnqLrku

सितारों से आगे

पहिये के आविष्कार को सभ्यता की तरफ बढ़ाया गया इंसान का पहला सबसे बड़ा कदम माना जाता है। लेकिन आधुनिकता की तरफ बढ़ाया गया पहला बड़ा कदम दूरबीन के आविष्कार के साथ ही शुरू होता है। यह सिर्फ दूर की चीजें पास दिखाने वाला उपकरण भर नहीं था, यह एक ऐसी शुरुआत भी थी जिसने हमारे देखने, सोचने, समझने के ढंग और हमारी अवधारणाओं तक को बदल दिया। कहते हैं मूल रूप में टेलिस्कोप का आविष्कार डच वैज्ञानिक हैंस लिपरहे ने चार सौ साल पहले किया था और आविष्कार के बाद जब उन्होंने इसे पीजा केदार्शनिक गैलीलियो गैलीली को सौंपा तो यह सपने में भी नहीं सोचा था कि वे इस उपकरण से कितना बड़ा बदलाव ले आएंगे। सोचा तो शायद गैलीलियो ने भी नहीं होगा कि दूर आसमान की दुनिया जब आंखों के और करीब आएगी तो क्या-क्या बदलेगा। उन्होंने इस उपकरण में न सिर्फ सुधार किया, बल्कि इसकी मदद से रात-रात जगकर ग्रहों की गति के जो नक्शे बनाए, वे उन्हें इस नतीजे पर ले गए कि हमारे ब्रह्मांड का केंद्र सूर्य है, पृथ्वी नहीं। यही सच गैलीलियो ने जब दुनिया को बताया तो वेनिस की सत्ता ही हिल उठी। आसमान के किसी सच सेधरती की सत्ता हिलने के ऐसे उदाहरण इतिहास में कम ही हैं। खुद वेनिस की चर्च ने भी नहीं सोचा था कि दूरबीन नाम का एक छोटा सा उपकरण उसकी मान्यताओं को चुनौती दे सकता है, इसलिए उन्होंने गैलीलियो को दोषी माना। उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया, उन पर मुकदमा चला और उन्हें यातनाएं देकर यह स्वीकारने पर मजबूर किया गया कि उन्होंने जो कुछ भी कहा है वह झूठ है। उन्हें ताउम्र के लिए घर में नजरबंद कर दिया गया लेकिन दुनिया ने सच को जानने वाला उपकरण हासिल कर लिया था, इसलिए चर्च का यह दबाव ज्यादा दूर तक नहीं गया। गैलीलियो जरूर चले गए लेकिन दूरबीन ने उन्हें जो सच दिखाया था, वह जल्द ही दुनिया की स्थापित मान्यता बन गया।आज हमारे पास अंतरिक्ष को ज्यादा करीब से देखने या अंतरिक्ष को उसके भीतर जकर देखने के तमाम अत्याधुनिक और भारी भरकम उपकरण मौजूद हैं। हो सकता है कि उनके सामने गैलीलियो की दूरबीन कुछ बचकानी ही लगे। लेकिन आज की सारी उपलब्धियां चार सदी पहले बदली सामाजिक सोच की उस नींव पर ही खड़ी हैं।

 

***************************************

*****************************************************************************

nSfud tkxj.k

नक्सलियों का दुस्साहस

नक्सली संगठनों ने पांच राज्यों में बंद के दौरान जैसा उत्पात मचाया उससे यह कहीं अधिक गहराई से स्पष्ट हो गया कि उनकी ताकत भी बढ़ी है और दुस्साहस भी। यद्यपि नक्सली संगठन एक लंबे अर्से से यह साबित करते चले रहे हैं कि वे बंद के दौरान अपने प्रभाव क्षेत्र वाले इलाके में मनमानी करने में सक्षम हैं, लेकिन नक्सलवाद से ग्रस्त राज्यों और केंद्र सरकार की प्रतिक्रिया जस की तस रहती है। हर बार सिर्फ यही सुनने को मिलता है कि नक्सली संगठनों से सख्ती से निपटा जाएगा और अमुक-अमुक घटना के लिए दोषी नक्सलवादियों को कानून के कठघरे में खड़ा किया जाएगा। पिछले दिनों मुख्यमंत्रियों के सम्मेलन में नक्सली संगठनों से निपटने की प्रतिबद्धता वैसे ही शब्दों के जरिये व्यक्त की गई जैसे इसके पहले की जा चुकी है। इस बार यह अवश्य सुनने को मिला कि नक्सली संगठनों के सफाए के लिए एक खाका तैयार कर लिया गया है और चार राज्यों के विधानसभा चुनावों के बाद उनके खिलाफ एक व्यापक अभियान छेड़ा जाएगा। पहले यह बताया जा रहा था कि इस अभियान की शुरुआत मानसून के बाद होगी, लेकिन जिस तरह मानसून कमजोर निकला उसी तरह केंद्र सरकार के इरादे भी। यदि मानसून के बाद नक्सलियों के खिलाफ कोई अभियान नहीं छेड़ना था तो फिर उसे लेकर बार-बार मुनादी क्यों की जा रही थी? क्या तब केंद्रीय सत्ता को यह नहीं पता था कि चार राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं? नक्सलियों के खिलाफ अभियान शुरू करने की घोषणा के बाद जिस तरह उसे आगे खिसकाया गया उससे कुल मिलाकर नक्सली संगठनों को ही मदद मिली।

भले ही केंद्र सरकार ने नक्सलवाद के खिलाफ कोई ठोस योजना तैयार कर ली हो, लेकिन यह नहीं कहा जा सकता कि उसे नक्सलवाद से ग्रस्त राज्य सरकारों का पूरा समर्थन मिलेगा। इस अभियान के संदर्भ में केंद्र और राज्यों के बीच अपेक्षित तालमेल कायम होने के प्रति भी सुनिश्चित नहीं हुआ जा सकता। यह किसी से छिपा नहीं कि लालगढ़ में माओवादियों के खिलाफ केंद्र सरकार के समर्थन से जो अभियान चल रहा है वह असफल ही अधिक है। कभी-कभी तो ऐसा लगता है कि केंद्रीय सत्ता और साथ ही राज्य सरकारों में समानांतर सत्ता कायम करते जा रहे नक्सलियों को सबक सिखाने की इच्छाशक्ति ही नहीं रह गई है। नक्सली संगठन दिन-प्रतिदिन और अधिक एकजुट, ताकतवर और दुस्साहसी होते चले जा रहे हैं, लेकिन केंद्र और राज्य सरकारें उनसे निपटने की रीति-नीति ही नहीं बना पा रही हैं। सच तो यह है कि नक्सलियों के खिलाफ ऐसा कुछ भी नहीं किया जा पा रहा है जो उन्हें तनिक भी भयभीत कर सके। क्या इससे बड़ी विडंबना और कोई हो सकती है कि हमारी खुफिया एजेंसी अभी तक इसका भी पता नहीं लगा सकी हैं कि नक्सलियों तक इतने घातक हथियार एवं विस्फोटक कैसे पहुंच रहे हैं? जब यह सामान्य जानकारी नहीं जुटाई जा पा रही तब फिर यह अपेक्षा कैसे की जा सकती है कि उन्हें आधुनिक हथियारों से लैस होने से रोका जा सकेगा? यदि नक्सलियों पर किसी भी तरह का कोई अंकुश नहीं सकता तो फिर उनकी मनमानी बढ़ते चले जाने पर आश्चर्य कैसा?

***************************************

nSfud tkxj.k

जागरूकता के लिए पहल

 

दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में क्लाइमेट चेंज और पारंपरिक ऊर्जा विषय पर आयोजित संगोष्ठी का उद्घाटन करते हुए मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने राजधानी में जिस आठ सूत्री जागरूकता कार्यक्रम को शुरू करने की बात की, उसे नि:संदेह स्वागत योग्य माना जाना चाहिए। इस अवसर पर मुख्यमंत्री द्वारा ग्लोबल वार्मिग के कारण हो रहे जलवायु परिवर्तन पर चिंता जताते हुए इससे मुकाबला करने में जनता के सहयोग की अपेक्षा करना स्वाभाविक है। देश की राजधानी और रोजगार का प्रमुख केंद्र होने के कारण दिल्ली की आबादी जितनी तेजी से बढ़ रही है उतनी तेजी से यहां बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराना सरकार के लिए बहुत बड़ी चुनौती साबित हो रहा है। इस चुनौती से निपटने के लिए सरकारी प्रयासों के साथ-साथ जनसहयोग की भी जरूरत है। इस सहयोग के बिना सरकार चुनौतियों से सफलतापूर्वक नहीं निपट सकती। मुख्यमंत्री ने जिस आठ सूत्री कार्यक्रम को दिल्लीवासियों के लिए आचार संहिता बनाने और इस बारे में व्यापक जनजागरूकता अभियान चलाने की बात कही है उनमें प्लास्टिक बैग का इस्तेमाल करने, वर्षा जल का संचयन, जल का पुनर्शोधन, सौर ऊर्जा का प्रचार-प्रसार, कचरा प्रबंधन, दीवारों पर पोस्टर चिपकाने पर पाबंदी, बिजली तथा पानी की बचत करने की बात शामिल है।

 

इन आठ मुद्दों पर दिल्ली की जनता को जागरूक करने के साथ-साथ सरकार को भी यह दिखाना होगा कि वह खुद केवल इनके प्रति चिंतित है बल्कि इन सभी के लिए ठोस उपाय भी कर रही है। ऐसा करके ही दिल्लीवासियों को भी इसके लिए प्रेरित किया जा सकता है। अगर जनता को यह महसूस होगा कि सरकार के कदम सिर्फ मंचीय भाषणों तक ही सीमित हैं तो फिर उससे जागरूक होने की उम्मीद करना बेमानी है। इस दिशा में कारगर कदम उठाकर ही जनता को आश्वस्त किया जा सकता है। राजधानी की जनता को भी हर समस्या के लिए सरकार को कोसते रहने की प्रवृत्ति का परित्याग करते हुए दिल्ली को साफ-सुथरा और व्यवस्थित रखने में सरकार के साथ हर कदम पर सहयोग करना होगा। इससे कोई इनकार नहीं कर सकता कि दिल्ली में बिजली और पानी की मांग लगातार बढ़ रही है। ऐसे में इनके अपव्यय का ध्यान रखते हुए वर्षा जल संचयन के लिए भी लोगों को आगे बढ़कर पहल करनी होगी।

 

***************************************

**************************************************************************************************************************

jktLFkku if=dk  

भारत भी विकसित करे ड्रोन

ड्रोन एक ऎसा विमान होता है, जिसमें कोई चालक नहीं होता। यह कई रू पों और आकारों में होता है, लेकिन उनमें से कुछ का नियंत्रण तो रिमोट कंट्रोल से होता है और कुछ में स्वचालित प्रणाली का उपयोग कर पहले से ही पूरा कार्यक्रम तय कर दिया जाता है। ये टोह लेने का काम कर सकते हैं और किसी लक्ष्य पर अचूक निशाने के साथ हमला कर सकते हैं। इनका उपयोग आग बुझाने जैसे असैनिक कार्यो में भी किया जा सकता है। जिन ड्रोन में हथियार फिट किए जा सकते हैं उन्हें अनमैन्ड कम्बैट एयर वेहिकल्स (यूसीएवी) कहा जाता है। एमक्यू-1 ऎसा ही ड्रोन है, जिसमें हवा से जमीन पर मार करने वाले एजीएम-114 प्रक्षेपास्त्र लगे हैं। पाकिस्तान के अफगान सीमा से सटे कबाइली इलाके में तालिबान के खिलाफ अमरीका इन ड्रोन का ताबडतोड उपयोग कर रहा है। इन इलाकों में अमरीकी सैनिक नहीं भेजे जा सकते। हाल ही एक ड्रोन हमले में पाकिस्तानी तालिबान का प्रमुख बेतुल्लाह मेहसूद मारा गया था। किसी बीहड में गुम हुए या छिपे व्यक्ति को भी यह ड्रोन खोज सकता है। 24 फुट से अधिक लम्बाई वाले यह ड्रोन जुलाई 2008 से जुलाई 2009 के दौरान पाक के कबाइली इलाकों में 70 से ज्यादा हमले कर चुके हैं।

ड्रोन का उपयोग खुफिया जानकारी इकटी करने, किसी खास लक्ष्य पर हवाई हमला करने, सामान ढोने और व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। उकाब, जासूस और मुखबिर नामों से पाकिस्तान टोही ड्रोन का उपयोग पहले से कर रहा है। अब वह हमलों के लिए प्रयुक्त होने वाले ड्रोन खरीदने की कोशिश में है। इटली मूल के इन ड्रोन का उपयोग अभी इटली कर रहा है। इनका ब्योरा अभी तक नहीं मिला है। भारत के रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के मॉडल हैं- निशांत, रूस्तम, लक्ष्य और गगन। टोह लेने वाले ड्रोन तो लगभग सभी देशों की आधुनिक सेनाओं के पास है, लेकिन हमला करने में सक्षम ड्रोन इजरायल और कुछ पश्चिमी देशों के पास ही हैं।

पाकिस्तान पहले कई बार ड्रोन हमलों पर आपत्ति जता चुका है। उसका दावा रहा है कि इन हमलों में ज्यादातर आम लोग मारे गए हैं। अमरीका मारे गए लोगों को आतंककारी बताता है और अब तो पाकिस्तान के अधिकारी भी उन्हें आतंककारी कहने लगे हैं। सच का पता लगा पाना तो मुश्किल है। हमलों में कितने आतंककारी मरे और कितने आम आदमी इसके सही आंकडे सामने नहीं सकते क्योंकि आतंककारी भी आम आदमी के रू में ही बस्तियों में रहते हैं और उनकी शिनाख्त नहीं हो सकती। पाकिस्तान और अमरीकी मीडिया के भरोसेमंद आंकडों के अनुसार वर्ष 2006 से अब तक ड्रोन हमलों में लगभग छह सौ आतंककारी आम लोग मारे जा चुके हैं। इनमें से दो-तिहाई तो पिछले दो वर्षो में ही मारे गए हैं। पाकिस्तान के बेहद सम्मानित आतंकवाद विशेषज्ञ आमिर मीर ने भी इस अवधि में ड्रोन हमलों में मौतों के आंकडे लगभग इतने ही बताए हैं। मीर का कहना है कि पिछले साढे तीन साल में ड्रोन हमलों में लगभग सात सौ लोग मारे गए हैं, हालांकि उन्होंने यह भी कहा है कि मरने वालों में से ज्यादातर आम लोग थे। यह ऎसी बात है, जिसकी पुष्टि हो पाना असम्भव है। यह तो निर्विवाद कहा जा सकता है कि पिछले साल की गर्मियों में अब तक अमरीकी ड्रोन हमलों में अल कायदा तालिबान के निचले दर्जे के कई दर्जन आतंककारी और कम से कम दस मध्यम और आला दर्जे के आतंककारी नेता मारे जा चुके हैं। जो प्रमुख आतंककारी ड्रोन हमलों में मरे हैं, उनमें अल्जीरियाई जिहादी अबू सुलेमान अल जजाहरी, अबू खबाब, दक्षिणी वजीरिस्तान में तालिबानी कमांडर अब्दुल रहमान, पाकिस्तान में अल कायदा का प्रमुख अबु हैरिस, अल कायदा के प्रमुख आतंककारी खालिद हबीब, अबु जुबेर अल मासरी और अब्दुल्ला अज्जाम अल सऊदी, अल कायदा का प्रचार प्रमुख अबु जिहाद अल मासरी, çब्ा्रटिश नागरिक राशिद रऊफ (जो 2006 में अमरीका और कनाडा के विमान गिराने का प्रमुख संदिग्ध था) शामिल है। राशिद रऊफ की मौत ड्रोन हमले में होना भी विवादास्पद है।

ड्रोन हमलों का एक सतत लक्ष्य पाकिस्तानी तालिबान के प्रमुख बैतुल्लाह महसूद का गढ दक्षिणी वजीरिस्तान रहा है। अमरीका और पाकिस्तान के अधिकारियों के अनुसार दिसम्बर 2007 में हुई बेनजीर भुट्टो की हत्या मेहसूद ने ही करवाई थी। अब मेहसूद तो मारा जा चुका है, लेकिन अल कायदा का नेता ओसामा बिन लादेन अब तक ड्रोन के निशाने पर नहीं आया है। मेहसूद के मारे जाने से तहरीक--तालिबान अस्त-व्यस्त जैसी स्थिति में है।

ओबामा प्रशासन ने ड्रोन हमले बढाए तो हैं, लेकिन वह कुछ प्रकट कारणों के चलते इनके बारे में चर्चा नहीं करना चाहता। इन ड्रोन हमलों की वजह से पाकिस्तान का कबाइली इलाका आतंककारियों के लिए पहले जैसा सुरक्षित नहीं रह गया है। इनकी वजह से अल कायदा अनुमान लगाता रहता है, अपने ही साथियों पर शक करता रहता है तथा अपनी प्राथमिकताओं, योजनाओं और तरीकों पर सवालिया निशान लगाता रहता है। सीआईए का यह भी मानना है कि ड्रोन हमलों के चलते वे अपनी सुरक्षा के लिए ज्यादा चिंतित हैं। इससे उन्हें भावी हमलों की साजिश रचने के लिए अपेक्षाकृत कम समय मिल पाता है। आतंककारियों के खिलाफ ड्रोन हमलों की सफलता को ध्यान में रखकर भारत को भी परिष्कृत ड्रोन खरीदने का महत्व समझ में जाना चाहिए। अमरीका अब तक ड्रोन या इसकी तकनीक किसी को भी देने को उत्सुक नहीं है। पाकिस्तान लम्बे समय से इनकी मांग कर रहा है। पाकिस्तान को यदि हमला करने वाले ड्रोन मिल गए तो भविष्य में भारत को उनसे मुश्किलें पेश सकती हैं। इसलिए भारत के लिए यह बहुत जरू री है कि वह ड्रोन के टोह लेने वाले और हमला करने वाले प्रारूप विकसित करे या किसी देश से खरीदे। इस मामले में हमें लम्बा सफर तय करना है।

***************************************

 

jktLFkku if=dk  

खतरे में स्वास्थ्य

हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के साथ-साथ दुनिया में वायरल बीमारियों के मशहूर अमरीकी विशेषज्ञ टी.जे.जॉन ने स्वास्थ्य सम्बन्धी शोध रिपोर्टो के आधार पर कहा है कि स्वाइन फ्लू जैसे वायरस का नया प्रकोप स्वास्थ्य सुरक्षा की दृष्टि से कमजोर भारत सहित गरीब देशों के लोगों को बडी संख्या में अपनी चपेट में ले सकता है।

 

निस्संदेह जन स्वास्थ्य सुरक्षा की दृष्टि से भारत की स्थिति चिंताजनक है। स्वास्थ्य के मामले में देश में ऎसा तंत्र ही विकसित नहीं हुआ है जो अचानक आई किसी महामारी से प्रभावी ढंग से निपट सके। पिछले दिनों विश्व स्वास्थ्य संगठन की 175 देशों के जन स्वास्थ्य सर्वेक्षण पर आधारित रिपोर्ट में स्वास्थ्य पर सार्वजनिक खर्च के मामले में भारत को 171वां क्रम दिया गया है। स्वास्थ्य पर खर्च के दृष्टिकोण से अफ्रीका के सबसे गरीब समझे जाने वाले कई देशों की तुलना में भी भारत की स्थिति बदतर है। भारत दुनिया के उन पांच देशों में है जहां की सरकार स्वास्थ्य पर सबसे कम खर्च करती है। सरकार के द्वारा स्वास्थ्य क्षेत्र पर सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का एक प्रतिशत से भी कम मात्र 0.9 फीसदी खर्च किया जाता है।

 

पिछले कई दशकों की उपेक्षा और गिरती बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाओं के कारण देश में जन स्वास्थ्य का स्तर लगातार गिरता गया है। देश के अधिकांश सरकारी अस्पतालों में तो पर्याप्त संसाधन हैं, ही डॉक्टर और अन्य जरूरी स्टाफ। देश की वर्तमान एक अरब 10 करोड आबादी के लिए स्वास्थ्य मानकों के मद्देनजर अस्पतालों में प्रति 100 लोगों पर 2 बेड के हिसाब से दो करोड 20 लाख बेड क्षमता होनी चाहिए किन्तु इस समय देश में केवल साढे सात लाख बेड क्षमता है। स्थिति यह है कि सार्वजनिक स्वास्थ्य व्यवस्था के अभाव में एक बीमार आम भारतीय नागरिक भाग्य भरोसे ही रहता है। देश में बीमारियां आम आदमी की कार्य क्षमता घटा रही हैं। आम आदमी को जन स्वास्थ्य के मोर्चे पर कदम-कदम पर परेशानियों का सामना करने के बाद भी छोटी-छोटी बीमारियों का भी उपयुक्त उपचार नहीं मिल रहा है। जिस तरह से ग्रामीण क्षेत्र में लम्बे समय से डॉक्टरों की कमी रही हैै और ग्रामीण स्वास्थ्य केन्द्र लापरवाही और अव्यवस्था का शिकार रहे हैं, उसी तरह के हालात अब शहरों के सरकारी अस्पतालों मेंभी दिखाई देने लगे हैं। गांवों में ही नहीं शहरों में भी स्वास्थ्य बीमे की हालत दयनीय है। तेजी से महंगे होते इलाज से सुरक्षा के लिए स्वास्थ्य बीमा देश के दस फीसदी लोè